फूल वाला गमला

मुद्दत के बाद मेरे गमले में
एक फूल खिला है ।
प्रकृति का उपहार
मुझे भी मिला है ।
ख़ुशी से फूली नहीं समाती मैं
मानो अद्भुत ख़ज़ाना मिला है ।

जाने कहाँ से एक बीज
गमले में आ गिरा ।
एक नन्हा सा अंकुर
अंकुरित हो गया ।
हर रोज़ सुबह ने प्यार से पाला पोसा
देखते ही देखते वह बड़ा हो गया ।
सुंदर पौधा पल्लवित हो रहा था
मेरा मन हर्षित हो रहा था ।
कितनी और शाखाएं फूट पड़ी
उसकी उन्नति देख मैं गर्वित हो उठी ।
आन्या ,मान्या ने अपनी
अंजली से थामा उसे
और धीरे -धीरे वह
अपने आप को संभालने में
समर्थ हो गया ।

आज उसमें एक सुंदर फूल
शोभा पा रहा है ।
अपने आस पास अनेक कलियाँ देख मुस्कुरा रहा है ।
हरा भरा है यह गमला
प्रकृति की शान है यह गमला ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *