कैसी हो हमारी दिनचर्या – स्वस्थ एवं प्रसन्न रहने के लिए ?

जीवन में स्वस्थ एवं प्रसन्न रहने के लिए प्रकृति से निकटता का अत्यधिक महत्व है । यह घनिष्टता जितनी गहरी होती है, मानव स्वयं को उतना ही अधिक सुखी और सफल पाता है । प्रश्न स्वाभाविक है कि इसके लिए कैसी हो हमारी दिनचर्या ?

बचपन से बड़ों से सुनते आ रहे हैं, पढ़ते आ रहे हैं, छोटों और बच्चों को सीख देते आ रहें है कि “जल्दी सोना – जल्दी उठना,  मनुष्य को स्वस्थ,धनवान और बुद्धिमान बनाता  है” | लेकिन वास्तव में कितना पालन करते है – यह एक बहुत बड़ा प्रश्न है जो प्रायः सभी को मन ही मन कचोटता रहता है | बहुत ही आसान है – केवल मन में संकल्प लेने की देर रहती है |

प्रायः चार से साढ़े चार बजे के बीच उठ जाना – रात्रि सोने का समय नौ और दस के बीच I प्रातः उठकर कुछ समय ईश्वर के साथ व्यतीत कीजिये उनसे बातें कीजिये I एक नई भोर का दर्शन होने के लिए धन्यवाद दीजिये I सारी व्यथा कह डालिये एवं परेशानियों को समर्पित करके निश्चिन्त हो जाइये I फिर देखिये कैसे ईश्वर सारे समाधान सुझाता चला जाता है I प्रतिदिन ईश्वर से बात कीजिये I

तत्पश्चात  एक या दो या अधिक अपनी क्षमता के अनुसार गुनगुना पानी पीजिए I  एक गिलास में नींबू का रस भी निचोड़ लीजिये I  स्वच्छ होकर खुले में चले जाइये योग करने के लिए – अपनी क्षमता एवं आवश्यकता के अनुसार I साथ में प्राकृतिक दृश्यों का आनंद भी लीजिए I इसके बाद प्रातः सैर का समय आता है I किसी भी खुले मैदान अथवा उद्यान में उपलब्धता के अनुसार चले जाइये कम से कम तीस मिनट I

इस कार्यक्रम के पश्चात आप अपने घर एवं कार्यस्थल में कार्यरत हो जाइये I संध्याकाळ समयानुसार कुछ हल्का योग कर सकें तो बहुत अच्छा है I कुछ मिनट निकाल कर प्रकृति की छठा का आंनद लीजिये I प्रयत्न कीजिये की रात्रि का भोजन सूर्यास्त अथवा जितनी जल्दी हो सके समाप्त करें तथा  तदुपरांत बाहर कम से कम बीस मिनट की सैर करें I देखिये आप सदैव सवस्थ एवं प्रसन्न रहते है।

यदि आपकी बागवानी में रूचि है तो सोने में सुहागा I प्रकृति के साथ और  समय व्यतीत करने का सुनहरा अवसर I लगभग आधा घंटा तो प्रतिदिन अथवा श्रद्धा अनुसार जितना समय निकल पाए I बड़ा आनंद आता है I

अतः स्वस्थ और प्रसन्न जीवन के लिए हमें प्रत्येक दशा में प्रकृति से बिना खिलवाड़ किये, घनिष्ठा एवं मित्रता तो बढ़ानी ही पड़ेगी I

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *